12 Dec 2017

अब ATM से नकली नोट निकलने पर कराना होगा FIR , जानिए क्या है नया नियम


                              
रोहित कुमार :-अब एटीएम से पैसे निकालते समय यदि आपको नकली नोट मिलता है तो अब बैंक के साथ आपको भी कुछ जिम्मेदारी उठानी होगी। यदि ट्रांजैक्शन में पांच या इससे अधिक नकली नोट निकल जाएं तो आरबीआई के नए नियमों के अनुसार आपको पुलिस के पास एफआईआर दर्ज कराना होगा। आपने यदि एफआईआर नहीं दायर करवाया है और बैंक के पास नोट नकली होने की शिकायत लेकर जाते हैं तो आपको इसके बदले मुआवजा मिलेगा। आप दूसरे कानूनी मामलों में भी फंस सकते हैं।
अगर एटीएम से पैसे निकालते वक्त आपको नकली नोट मिलता है तो आप सबसे पहले एटीएम में मौजूद गार्ड से इसकी शिकायत करें। हर एटीएम में गार्ड के पास एक रजिस्‍टर होता है। इस रजिस्‍टर पर आप नोट का नंबर, ट्रांजैक्‍शन आईडी नंबर, तारीख और समय लिख कर हस्ताक्षर करें।
इस रजिस्‍टर पर गार्ड के साइन भी लें। इसके बाद एटीएम जिस ब्रांच से जुड़ा है उस ब्रांच के मैनेजर के पास इस संबंध में शिकायत दर्ज कराएं।
क्या है आरबीआई का नियम: भारतीय रिजर्व बैंक की गाइडलाइंस के अनुसार, हर बैंक में नकली नोट की जांच के लिए स्‍कैनर लगा होता है। आपकी शिकायत पर बैंक नोट की जांच कराएगा। अगर नोट सच में नकली पाया जाएगा तो बैंक आपसे यह नोट ले लेगा और आपको इसके बदले सें अपनी तरफ से नया नोट जारी करेगा। बैंक नकली नोट को अपने करेंसी चेस्‍ट में भेज देगा, जहां इसे नष्‍ट कर दिया जाएगा।
बैंक न करें सहयोग तो क्या करें: कई बार बैंक नकली नोट के मामलों में शिकायत दर्ज करने में आनाकानी करते हैं। ऐसे में आप रिजर्व बैंक में शिकायत दर्ज करा सकते हैं। आप आरबीआई की ओर से बैंकिंग से जुड़ी शिकायतों के समाधान के लिए काम करने वाली संस्‍था बैंकिंग लोकपाल में शिकायत भेज सकते हैं। रिजर्व बैंक के सभी रीजनल ऑफिस में इसके लिए अलग से विभाग बना हुआ है। आप रिजर्व बैंकों को सीधे ई-मेल भी कर सकते हैं। ई-मेल एड्रेस आपको बैंक की ब्रांच में लिखा हुआ मिल जाएगा।
Read Also:
आरबीआई की वेबसाइट पर आम जनता के लिए कंप्लेन सेक्‍शन बना हुआ है। आप इस सेक्‍शन पर जाकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। आप अपनी शिकायत में जाली नोट खराब नोट, कटे फटे नोट और ट्रांजैक्‍शन स्लिप की फोटोकॉपी को भी इस शिकायत के साथ अटैच कर सकते हैं। आरबीआई आपकी शिकायत पर बैंक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा और नोट के बराबर की रकम क्षतिपूर्ति करने के लिए कहेगा।

No comments:

Post a Comment

1. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
2. हम आपसे लेख के बारे में वास्तविक राय की अपेक्षा करते हैं।
3. यदि आप विषय के अतिरिक्त कोई अन्य जानकारी चाहते हैं तो अपने प्रश्न ईमेल द्वारा पूछे - rohitksports@gmail.com