18 Dec 2017

भारत क्यों नहीं बना पाता है सस्ते प्रोडक्ट्स ? आखिर क्या है कारण !!

Google Images 
आप भारत में कही भी चले जाये आपको मेड इन इंडिया से ज्यादा मेड इन चाइना के प्रोडक्ट्स ज्यादा देखने को मिलेगा ! जिसमे खिलौने से लेकर बड़े - बड़े मशीन तक सब कुछ चाइना ही देखेगा ! अब इसके उल्टा चाइना में कहीं भी आपको मेड इन इंडिया के प्रोडक्ट्स  जल्दी देखने को नसीब नहीं होगा ! भारत के बाज़ारो में उनके दी हुयी प्रोडक्ट्स ज्यादा बिकती है परन्तु  उनके बाज़ारो में  भारत के प्रोडक्ट्स बहुत कम बिकती है ! अब सवाल यह है की उनके प्रोडक्ट्स का इतना ज्यादा उपयोग क्यों किया जाता है तो आपका जबाब होगा की वो सस्ते होते है !  तो भारत इतने सस्ते प्रोडक्ट्स क्यों नहीं बना पाता  है ! 
तो चलिए आज हम इसके जड़ को समझने की कोशिश करते है  भारत इतने सस्ते  प्रोडक्ट्स क्यों नहीं बना पाता  है

ये है कुछ महत्वपूर्ण तथ्य :--

  • दुनिया की सबसे बड़ी बड़ी इकोनॉमी वाली देशो में से चाइना में बहुत सस्ते मजदुर जाते है ! 
  • वियतनाम और श्रीलंका जैसे देशो से चाइना में लेबर रेट 30 % कम  है ! लेकिन इनके और चाइना के मजदूरों में बहुत ज्यादा अंतर है ! 
  • प्रोडक्टविटी ग्रोथ की बात करे तो 2017 में चाइना का ग्रोथ रेट में सबसे आगे है !
  • वहाँ पर कॉम्पटेटिव प्राइसिंग को लो प्राइस पर अफोर्ड कर सकते है ! क्योकि वहां प्रोडक्ट इनोवेसन और आर & डी पर खर्च नहीं करना पड़ता है !
  • इसके दो कारण है :- 
  1. चाइना वो प्रोडक्ट बनाती है जो पहले से बन चुकी होती है , तो वहाँ पर सिर्फ प्रोडक्ट बनाने का ही खर्च आता है ! 
  2. और दूसरा ये की चाइना दूसरे  प्रोडक्ट की कॉपी करने में आगे है 
  •  ज्यादा से ज्यादा प्रोडक्ट बेचने के लिए ज्यादा से ज्यादा सस्ता करना पड़ता है और सस्ता करने के लिए भारी मात्रा में उत्पादन करना होता है और जब भारी मात्रा में उत्पादन होगा तो प्रोडक्ट सस्ता हो जायेगा !
और दूसरा और सबसे महत्वपूर्ण तरीका है डंपिंग स्ट्रेटजी , तो चाइना डम्पिंग से ही काम करता है ! चाइना के व्यापारी अपने प्रोडक्ट को दूसरे देश को निर्यात करते है ! और उनका भाव वहा के स्थानीय मार्किट से भी कम रखते है ! और इससे वे मार्किट पर कब्ज़ा करके पुरे मार्किट  तोड़ देते है ! ये करने में चाइना सबसे आगे है ! आखिर क्या है कारण 
भारत को इस तरह से आगे आने के लिए क्या करना चाहिए ?
  • देश के कुछ बड़े - बड़े अर्थशास्त्री के मुताबिक नियम को और सरल करना चाहिए ताकि भारत के व्यापारियों को लेन -देन  में सुविधा मिल सके !
  • Manufacture और Agriculture  में और सुधार लाना होगा 
  • मजदूरों को नए नए टेक्निक और स्किल्स को मजबूत करना होगा यानि की उन्हें मल्टीस्पेशलिस्ट बनाना पड़ेगा !
  • और सबसे महत्वपूर्ण है की चाइना के प्रोडक्ट को खरीदना बंद करना होगा , इससे भारत अपने आप ही आगे निकल जायेगा !
इन्हे भी जरूर पढ़े :-

दोस्तों अगर आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी तो इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि सभी लोग जागरूक हो सके और चाइना के प्रोडक्ट  को कम उपयोग करे !

No comments:

Post a Comment

1. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
2. हम आपसे लेख के बारे में वास्तविक राय की अपेक्षा करते हैं।
3. यदि आप विषय के अतिरिक्त कोई अन्य जानकारी चाहते हैं तो अपने प्रश्न ईमेल द्वारा पूछे - rohitksports@gmail.com